हिंदी ENGLISH ਪੰਜਾਬੀ Sunday, November 18, 2018
Follow us on
संस्कृति परम्पराएं
यमुना किनारे धूमधाम से मनाया गया छठ पर्व

पूर्वी भारत के प्रमुख त्योहारों में से एक छठ पर्व हिमाचल के विभिन्न समुदायों के शहर पांवटा साहिब मे धूमधाम से मनाया गया। इस मौके पर पूर्वी भारत के लोगों ने यमुना व बाता नदी के किनारे छठ पूजा की। इस प्रसिद् पर्व के लिये देर शाम यमुना व बाता नदी पर पूजा अर्चना के लिये भारी भीड़ जुटी रही महिलाओं ने सूर्य भगवान की पूजा की व उन्हे जल चढ़ाया।

सदियों से हस्तशिल्पियों की आजीविका का साधन रहा है लवी

अंतरराष्ट्रीय लवी मेले में भले ही आधुनिकता हावी हो गई है, लेकिन यहां अभी भी पहाड़ी संस्कृति की झलक भी देखने को मिलती है। लवी में एक मार्केट अभी भी ऐसी लगती है, जहां पर हिमाचल के दुर्गम क्षेत्रों में बनाई जाने वाली शॉल, टोपियों और अन्य पारंपरिक हस्तशिल्प के उत्पाद मिलते हैं। यहां लोग बुशैहरी टोपियां पहनते हैं जो कि काफी आकर्षक लगती है। इसी मार्किट की बदौलत लवी मेला सदियों से हथकरघा से जुड़े लोगों की आजीविका का साधन बना हुआ है। 

'लोई' से शुरू हुआ सफर बदला 'लवी' में

लवी का शाब्दिक अर्थ है, 'लोई'. यह ऊन से बनी एक गर्म शॉल होती है. इस शब्द की उत्पति से ही लवी शब्द की उत्पति हुई है. हिमाचल प्रदेश के अधिक सर्दी वाले क्षेत्रों में जो गर्म ऊन से बना 'चोला' पहना जाता है, उसे भी 'लोइया' कहा जाता है। सिरमौर जिला में 'लोइया' बड़े शौक से पहना जाता है। लवी का मेला सतलुज के किनारे बसे रामपुर में आयोजित किया जाता है। रामपुर रियासत में लवी मेला मध्य शताब्दी से चल रहा है। 

ऐतिहासिक और व्यापारिक मेला है लवी, जानिए क्या है खासियत

हिंदुस्तान - तिब्बत मार्ग पर शिमला से 130 किलोमीटर दूर रामपुर बुशैहर. यहां हर बर्ष 11 से 14 नवंबर तक लगता है एतिहासिक लवी मेला। लवी, हिमाचल प्रदेश का ऐसा एकमात्र मेला है, जिसका लंबा पारंपरिक इतिहास हैं। कुल्लू का दशहरा और मंडी की शिवरात्रि की तरह लवी मेले में देवी-देवताओं का समागम नहीं होता। 

यहां जन्म से मरण तक हर आयोजन में होता है लाल चावल का प्रयोग

हिमाचल प्रदेश के मंडी जिला की अति दुर्गम चौहार घाटी में सदियो से चली आ रही लोक परंपरा के चलते लाल चावल वहां के लोगों के जीवन का अंग बन चुका है। जन्म से लेकर मरण तक अपने परंपरागत अनुष्ठानों में यहां के लोग अपने खेतों में उगने वाले लाल चावलों का प्रयोग करते हैं। लाल चावल के बिना चौहार घाट के लोगों का कोई भी अनुष्ठान पूरा नहीं माना जाता। विवाह समारोह, मुंडन संस्कार या अन्य कोई भी शुभ कार्य हो लाल चावल को हर रस्म और भोज में शामिल किया जाता है। यही नहीं, अंतिम क्रिया की रस्म अदायगी में भी लाल चावल का उपयोग होता है।

यहां दूल्हे के सिर नहीं सजता सेहरा

दूल्हे का सेहरा सुहाना लगता है... यह आवाज मंगली पंचायत में दूर-दूर तक सुनाई नहीं देती है। यहां शादियां बिना सेहरे के होती है। दरअसल मंगली के मजोर गांव में नाग देवता के डर से लोग शादी सेहरा बांधकर नहीं करते है।

कर्नाटक में सिरमौरी नाटी की धूम

संस्कृति मंत्रालय भारत सरकार के सौजन्य से दक्षिण क्षेत्रीय सांस्कृतिक केन्द्र तंजावूर द्वारा मैसूर में आयोजित मैसूर दशहरा उत्सव में चूड़ेश्वर सांस्कृतिक दल के कलाकारों ने बहुरंगी कलाओं के उत्सव में भाग लेकर सांस्कृतिक क्षेत्र में सिरमौरी संस्कृति की अमिट छाप छोड़ी है।

अनोखी परंपरा : दुल्हन को भगाकर ले जाता है दूल्हा

मंडी जिला की सराजघाटी में आज भी दूल्हे द्वारा अपनी दुल्हन को भगाकर ले जाने वाली शादी की अनोखी रस्म को निभाया जाता है. इस अनोखी रस्म को निभाने के लिए युवक-युवतियों को किसी खास समारोह का इंतजार करना पड़ता है. शादी करने से पहले लड़का-लड़की को अपने प्यार का इजहार अपने किसी दोस्त या रिश्तेदार के जरिए करना पड़ता है.