Follow us on
 
लाहुल-स्पीति
पशुपालन विभाग लाहुल स्पिति ने आरम्भ किया टीकाकरण अभियान

पशुपालन विभाग लाहुल-स्पिति ने पशुओं के मुंहपका व खुरपका रोग के ख़िलाफ़ टीकाकरण अभियान आरम्भ कर दिया है, यह जानकारी एक  जारी कर उपनिदेशक पशुपालन विभाग डॉक्टर शुभम ठाकुर ने दी।

हिमाचल प्रदेश लोकतंत्र प्रहरी सम्मान राशि योजना की आवेदन तिथि बढ़ी

पुलिस अधीक्षक लाहुल-स्पिति राजेश धर्माणी ने एक प्रैस विज्ञप्ति जारी कर यह सूचना दी कि हिमाचल प्रदेश लोकतंत्र प्रहरी सम्मान राशि योजना-2019 के अनुसार आवेदकों को योजना का लाभ प्राप्त करने हेतु आवेदन करने के लिए तीन माह का समय दिया गया था, 25 मई 2020 को समाप्त हो चुका है। परंतु प्रदेश सरकार ने विश्वव्यापी महामारी कोविड-19 के दृष्टिगत आवेदन प्राप्त करने हेतु योजना में निर्धारित अवधि को दिनांक 31 मई 2020 तक बढ़ाने का निर्णय लिया है।

जनजातीय इलाकों की अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ करेगा ढींगरी मशरूम

लाहौल-स्पीति के लोगों की आर्थिकी को सुदृढ़ करने में ढींगरी मशरूम नए नगदी उत्पाद के तौर पर उभर कर सामने आया है। वानस्पतिक नाम ‘प्लुरोटस ओस्ट्रीटस’ के नाम से भी पहचाने जाने वाले इस ढींगरी मशरूम ने स्पीति घाटी के लोगों के लिए आय के नए द्वार भी खोले हैं।  नगदी उत्पाद के तौर पर अपनी जगह बना रहे इस ढींगरी मशरूम से स्पीति घाटी में नए अध्याय का सूत्रपात हुआ है। 

रोहतांग दर्रे में पांच सेंटीमीटर ताजा बर्फबारी

सैलानियों की पहली पसंद रहने वाले पर्यटन स्थल रोहतांग दर्रे में पांच सेंटीमीटर ताजा हिमपात हुआ है। वीरवार सुबह हल्की धूप खिली लेकिन दोपहर बाद मौसम ने करवट बदली ओर रोहतांग सहित ऊंची चोटियों में बर्फ़ के फाहे गिरने का क्रम शुरू हो गया। बर्फ़बारी व बारिश  से तापमान में भी काफी गिरावट आई है।

रोहतांग दर्रा बहाल होते ही चहक उठ जनजातीय इलाकों के ये लोग

बीआरओ ने चार दिन बाद रोहतांग दर्रे को बहाल कर दिया है। दर्रा बहाल होने से कुल्लू मनाली में फंसे किलाड़ पांगी के विद्यार्थियों सहित लाहुल घाटी के किसानों बागवानों ने राहत की सांस ली है। पांगी किलाड़ के लिए 84 वाहनों में 515 लोग मनाली से रवाना हुए। जिनमे विद्यार्थियों की संख्या अधिक रही। चार दिन से कुल्लू मनाली में फंसे किलाड़ पांगी के विद्यार्थी आज खुश नजर आए।

कोरोना के प्रति ऐसे जागरूक कर रही है जनजातीय महिलाएं

विकास खंड काजा में कोरोना वायरस के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए बैनर लेखन का कार्य महिलाएं कर रही है। स्पीति में में स्वयं सहायता समूह सेमकित आजकर बैनर लिखकर स्पीति में मिसाल कायम कर रहा है। अभी तक 30 बैनर सेमकित समूह लिखे जा चुके है जिन्हें काजा विकास खंड के विभिन्न क्षेत्रों में लगाया गया है। संगनम 1, काजा बाजार 6, काजा 4, ताबो में 3, किब्बर1, लोसर, कोमिक, हुरलिंग, काजा अस्पताल में एक एक बैनर लगाया गया है। सुमदो में 4 खंड विकास अधिकारी कार्यालय ,हल और खुरिक में भी एक एक बैनर लगाया गया है। इन बैनर की खास बात यह है कि स्पीति की स्थानीय बोली में इन बैनर को लिखा गया है। इसके साथ  ही हिन्दी और अंग्रेजी  में भी लिखा है। लोग काफी सराहना  कर रहे है। लोगों को अपनी बोली में  इन बैनरों के माध्यमों से संदेश दिया जा रहा है।

लाहौल घाटी के 133 किसानों ने किया रोहतांग पार

कोविड-19 के खतरे से निपटने के लिए लगाए गए लॉक-डाउन के कारण कुल्लू जिला के विभिन्न भागों में फंसे लाहौल घाटी के किसानों के लिए शनिवार का दिन बड़ा सुकून लेकर आया जब कुल्लू से 23 वाहनों में 138 किसानों को रवाना किया गया।  

राहगीरो के लिए खुला रोहतांग, पैदल पार करना होगा दर्रा

प्रदेश सरकार ने कुल्लू मनाली में फंसे किसानों बागवानों को राहत दे दी है। कृषि मंत्री डॉ रामलाल मार्कण्डे की अध्यक्षता में व बीआरओ के अधिकारियों की मौजूदगी में आज 20 टैक्सियों में 120 लाहौल वासियों ने घरों का रुख किया। आज पहले दिन ट्रायल के तौर पर इन लोगों को भेजा है। ट्रायल सफल रहा तो कल से रूटीन में लोगों की आवाजाही शुरू हो जाएगी।

शनिवार से लाहौल के लिए चलेंगे विशेष वाहन, मगर यात्रियों के लिए होगी ये शर्तें

कुल्लू में रह रहे लाहौल-स्पिति जिले के निवासियों को कृषि संबंधी कार्याें हेतु लाहौल घाटी तक पहुंचाने के लिए शनिवार से विशेष गाड़ियां आरंभ कर दी जाएंगी। शुक्रवार को अधिकारियों सहित मनाली-रोहतांग सड़क का निरीक्षण करने के बाद कृषि, सूचना प्रौद्योगिकी एवं जनजातीय विकास मंत्री डाॅ. रामलाल मारकंडा ने यह जानकारी दी।

Covid 19 : स्पीति में लिए तीनों सैंपल की रिपोर्ट आई नेगेटिव

काजा अस्पताल की टीम की ओर से एतिहात के तौर पर  लिए गए तीनों सैंपल की रिपोर्ट प्राप्त हो गई है। तीनों सैंपल की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। स्पीति क्षेत्र के लिए राहत भरी खबर है। काजा अस्पताल की टीम ने एहतियात के तौर पर तीन सैंपल लिए थे। इनमें दो व्यक्तियों के सैंपल काजा अस्पताल में लिए जबकि एक सैंपल किब्बर पीएचसी के तहत लिया गया था।

बापू के आदर्शों के साथ 55 वर्षों का साथ है सुखदयाल के इस चरखे का

जनजातीय जिला लाहुल स्पिति के ठोलंग निवासी सुखदयाल का जीवन चरखा, खड्डी, धागों के ताने बाने से उलझ कर उनके चाहने वालों को उम्र के 68 वें पड़ाव में भी सुन्दर वस्त्र तैयार कर उनमें खुशी का संचार करना है। सुखदयाल आजीवन राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के बुनकर विधा और चरखे के साथ साथ बिल्कुल साधरण जीवन यापन करने में विश्वास रखते हैं। अपने जीवन काल मे परिस्थितियां चाहे कैसे भी आई हो इन्होंने खड्डी और धागा तथा चरखा कभी नही छोड़ा।

लाहुल की बोली चिनाल पर मंथन

जनजातीय क्षेत्र लाहुल के मुठी भर लोगों ने इस पूर्णतः संस्कृत से मेल खाती चिनाल भाषा को सदियों से जीवंत रखा है। लाहुल की संस्कृति भी विशुद्ध रूप से इसी बोली से ओत-प्रोत है। प्राचीन काल से ही शिव व्यहुंडा के साथ साथ जीने मरने की कला कौशल इसी से सृजित हुई है।

बॉर्डर की रक्षा के साथ जनजातीय जिला के लोगों का स्वास्थ्य जिम्मा भी सम्भाला आईटीबीपी जवानों ने

चीन बॉर्डर से सटे स्पिति घाटी में बर्फ से ढके पहाड़ों में तैनात आईटीबीपी के जवान देश की रक्षा के साथ सामाजिक सरोकार से जुड़े काम को भी अंजाम दे रहा है। आईटीबीपी द्वितीय बटालियन ने स्पिति के हल और हंसा गांव में मेडिकल शिविर में 260 लोगों के स्वास्थ्य और 102 लोगों की रक्त की जांच की।

अब किसानों के पसीने से पिघलेगी रोहतांग की बर्फ

बीआरओ ने 15 नवम्बर से आधिकारिक तौर पर दर्रा वाहनो के लिये बन्द करने की बात कही है l लेकिन पिछले कई साल बीआरओ विपदा की घड़ी में दिसबंर में भी रोहतांग दर्रा बहाल करता रहा है l लेकिन इस बार लोगों की मांग और जरुरत होने के वाबजूद बीआरओ दर्रा बहाल करने को तैयार नहीं l    

लामा का सपना सच : अब साल भर जांस्कर से जुड़ी रहेगी पद्म घाटी

बीआरओ ने एक लामा के सपने को साकार कर दिया है। जिस दारचा-पद्म सड़क बनाने का बीड़ा उठाया था उसका पहला चरण पूरा हो गुआ है। इस सड़क के बनने से पद्म घाटी साल भर जांस्कर से जुड़ी रहेगी। 

12