हिंदी ENGLISH ਪੰਜਾਬੀ Tuesday, July 16, 2019
Follow us on
खेत-खलिहान

कृषि-बागबानी के लिए संजीवनी साबित होगी यह बर्फबारी

January 08, 2019 08:24 AM

हिमाचल में हुई बारिश गेहूं की फसल सहित सब्जियों के लिए लाभदायक है। बर्फबारी से सेब की बंपर फसल की उम्मीद है। जमीन को पर्याप्त मात्रा में नमी मिलने से गेहूं का बीमारियों से बचाव होगा। मटर, साग, मूली, शलगम आदि की सब्जियों के लिए भी यह बारिश लाभदायक है। साथ ही, आजकल लगाई जाने वाली प्याज की पनीरी के लिए जमीन को पर्याप्त नमी इस बारिश से मिल गई है। इससे पनीरी तैयार करने में परेशानी नहीं आएगी।

बारिश-बर्फबारी को कृषि बागबानी के लिए संजीवनी माना जा रहा है। मैदानी इलाकों में लंबे अंतराल के बाद बारिश हुई है, जो गेहूं की फसल के लिए उपयोगी मानी जा रही है। वहीं, बर्फबारी के बाद सेब के पौधों के लिए जरूरी चिलिंग आवर्स प्रक्रिया फिर से आरंभ हो गई है। बारिश-बर्फबारी को देखकर किसानों-बागबानों के चेहरे खिल गए हैं। काफी दिनों से रुके बागवानी कार्य अब हो सकेंगे।

विशेषज्ञों की सलाह
किसान जहां बेमौसमी सब्जियां उगाते हैं, वे खेतों में अधिक देर तक पानी न खड़ा होने दें। वहीं जहां जरूरत महसूस हो कीटनाशकों का छिड़काव करें। मौसम खुलते ही सेब के बगीचों में तौलिये बनाने सहित खाद डालने आदि का कार्य जल्द पूरा कर लें। बर्फबारी से सेब की बंपर पैदावार की उम्मीद जगी है, क्योंकि इसके लिए चिलिंग आवर्स पूरा होना जरूरी है।

मौसम विभाग शिमला के निदेशक मनमोहन सिंह का कहना है कि जनवरी के पहले सप्ताह में हुई बर्फबारी वरदान साबित होगी। जनवरी में हुई बर्फबारी लंबे समय तक टिकती है, जिससे जमीन में नमी आती है और प्राकृतिक जलस्रोत भी अच्छी तरह से रिचार्ज हो जाते हैं। अच्छी बर्फबारी हिमालय के ग्लेशियरों के लिए संजीवनी की तरह है, जिससे उनका सिकुड़ना कम होगा।

Have something to say? Post your comment
और खेत-खलिहान खबरें