हिंदी ENGLISH Wednesday, August 05, 2020
Follow us on
 
खेत-खलिहान

हिमाचल में होगा प्राकृतिक खेती का विस्तार

हिमाचल न्यूज़ डेस्क | January 12, 2019 04:40 PM

हिमाचल में जीरो बजट प्राकृतिक खेती को विस्तार देने के लिए हिमाचल प्रदेश कृषि विश्वविद्यालय ने 420 लाख रुपए की शोध परियोजना ‘हिमाचल प्रदेश में शून्य लागत प्राकृतिक खेती की तकनीकों का मूल्यांकन, परिशोध व प्रसार’ सरकार को प्रेषित की है।

इस योजना का उद्देश्य गेहूं, मक्का, धान, चना, मसूर, गन्ना, रागी तथा कंगनी, कोदा पर पैकेज ऑफ प्रैक्टिस तैयार करना व निर्वाह सुरक्षा हेतु इनकी कृषि तकनीकों को हिमाचल प्रदेश के किसानों तक पहुंचाना है। इस परियोजना के अंतर्गत प्रदेश की भौगोलिक आधार पर चिन्हित फसलों के जर्मप्लाज्म के संरक्षण व बीज वृद्धि के लिए कार्य किया जाएगा।

इस योजना से गाय और याक के गोबर तथा मूत्र से उत्पादित फसलों का मात्रात्मक व गुणात्मक आधार पर अध्ययन किया जाएगा। इसी तरह पहाड़ी तथा अधिक दूध देने वाली संकर किस्म की गउओं का तुलनात्मक अध्ययन किया जाएगा। इस कृषि-विधा हेतु राज्य सरकार ने विश्वविद्यालय को तीन करोड़ रुपए की प्रारंभिक सहायता दी है।

योजना में पहले वर्ष ही विश्वविद्यालय ने 12 देशी गउएं पालने की शुरुआत की है। कृषि विज्ञान केंद्र ऊना व कुल्लू को विशेषतौर से इस पर कार्य करने को कहा गया है।

Have something to say? Post your comment
और खेत-खलिहान खबरें
Breaking News : शराब की बोतल से बेसहारा पशु मुक्त राज्य बनाएंगे हिमाचल को
हिमाचल के बागवानों को पड़ा यह साल मंहगा
Agriculture News : जानिए फलदार पौधे लगाने का सबसे उपयुक्त समय
कृषि क्षेत्र में नई कहानी लिख रही है जाईका परियोजना
जाइका : किन्नौर के चिलगोजा व स्पीति के सीबक थाॅर्न को मिलेगी नई पहचान
फॉलआर्मी कीट के प्रकोप ऐसे बचाएं मक्की की फसल
प्रदेश को फल राज्य बनाने पर होंगे 100 करोड़ रुपये खर्च, 170 हेक्टेयर क्षेत्र में लगाए जाएंगे फलदार पौधे
प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना से लहलहाए 130 किसानों के खेत खलिहान
रोहित के उजड़े खेतों में हरियाली लाई मुख्यमंत्री खेत संरक्षण योजना
ऐसे पाएं सेब में स्कैब रोग से छुटकारा