हिंदी ENGLISH ਪੰਜਾਬੀ Wednesday, April 24, 2019
Follow us on
राज्य

प्राकृतिक कृषि है किसानों के लिये लाभ का सौदा : आचार्य देवव्रत

हिमाचल न्यूज़ | January 12, 2019 07:42 PM
नंदुरबार (महाराष्ट्र) : महाराष्ट्र के नंदुरबार के अंतर्गत नवनाथ नगर में आज ‘बीज स्वावलंबन के लिये गठबंधन’ विषय पर आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया। इस राष्ट्रीय संगोष्ठी में राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने बतौर मुख्यातिथि शिरकत की। यह कार्यक्रम महात्मा फुले कृषि विद्यापीठ, अक्षय खेती संस्थान और डॉं हेडगेवार सेवा समिति के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित किया गया था। 
 
इस अवसर पर राज्यपाल ने कहा कि किसानों की आर्थिकी को सुदृढ़ कर ही देश को स्वावलंबन की दिशा में आगे बढ़ाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि रसायनिक खेती से किसानों की आर्थिकी मजबूत नहीं कि जा सकती। मौजूदा समय में रसायनिक खेती ने किसानों की जमीन बंजर बना दी है, उत्पादन घट रहा है और किसान ऋण के बोझ तले आत्महत्या करने को मजबूर है। दूसरी तरफ जैविक कृषि भी इतनी महंगी है कि किसान को इससे भी लाभ नहीं है। 
 
राज्यपाल ने कहा कि पदमश्री सुभाष पालेकर द्वारा किसानों को प्राकृतिक कृषि के तौर पर विकल्प दिया है। पिछले 10 वर्षों से वह स्वयं भी इस पद्धति को गुरुकुल कुरुक्षेत्र के कृषि फार्म में अपना रहे हैं। विभिन्न विश्वविद्यालय में जांच के बाद अब ये सिद्ध हो चुका है कि प्राकृतिक कृषि से ही किसानों की आय दोगुनी की जा सकती है। 
 
हिमाचल प्रदेश सरकार ने प्राकृतिक कृषि को पूर्ण रूप से अपनाया है और हजारों किसान इसे कर रहे है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2022 तक हिमाचल को देश का कृषि राज्य बनाने का लक्ष्य रखा गया है। 
Have something to say? Post your comment
और राज्य खबरें
पौंग बांध विस्थापितों के लिए अच्छी खबर, हिमाचल और राजस्थान के मुख्य सचिवों की वार्ता में लिया यह फैसला
प्राकृतिक खेती को अपनाने का उचित समय : आचार्य देवव्रत
लड़कियों को अपने जीवन में आगे बढ़ने के लिए समान अवसर उपलब्ध होने चाहिए : आचार्य देवव्रत
अनुशासित युवा राष्ट्र के पथ पर ले जाते हैं : राज्यपाल
हैदराबाद में राइजिंग हिमाचल
बुद्धि व विवेक से अध्ययन को अपना लक्ष्य बनाएं विद्यार्थी : आचार्य देवव्रत
आचार्य देवव्रत ने गुजरात के राज्यपाल से मुलाकात की
हिमाचल और उत्तर प्रदेश के मध्य सुलभ होगा यात्री परिवहन : गोविंद सिंह ठाकुर
बढ़ता जल प्रदूषण तथा भूजल के स्तर में गिरावट गंभीर समस्या
धर्म वही जिसे धारण करने से स्वयं भी सुखी और अन्य भी सुखी