हिंदी ENGLISH Wednesday, August 05, 2020
Follow us on
 
देश

आज खिलेगी धूप, इस दिन से फिर होगी बारिश बर्फबारी

हिमाचल न्यूज़ | February 28, 2019 08:54 AM
मौसम

शिमला : हिमाचल में इस बार सर्दी का मौसम लोगों के लिए आफत बन कर आया है। जनजातीय जिला किन्नौर, लाहुल-स्पीति, चंबा, मनाली सहित ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बर्फबारी हुई, जिस कारण पूरा प्रदेश शीतलहर की चपेट में आ गया है। इसके साथ ही प्रदेश के छह क्षेत्रों का न्यूनतम तापमान माइनस में चला गया है।

मौसम विज्ञान केंद्र शिमला से मिली जानकारी के मुताबिक प्रदेश के अधिकांश क्षेत्रों में गुरुवार और शुक्रवार को मौसम साफ रहेगा, जबकि दो और तीन मार्च को फिर से बर्फबारी और बारिश की चेतावनी जारी कर दी गई है। इस तरह से प्रदेश में आगामी पांच मार्च तक मौसम खराब रहेगा। जिस तरह से मौसम करवट बदल रहा है, इससे जाहिर है कि मार्च महीने का पहला सप्ताह भी शीतलहर के दौर से गुजरना पड़ेगा।

फरवरी के हर सप्ताह पहाड़ों पर हिमपात और मैदानों में बारिश का सिलसिला जारी रहा। पिछले सप्ताह से ही मौसम खराब चल रहा है। ऐसे में फरवरी का पूरा महीना भी शीतलहर के दौर से गुजर रहा है। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला के मुताबिक अगले 24 घण्टों के दौरान राज्य में मौसम साफ रहेगा, लेकिन एक से पांच मार्च तक पहाड़ी इलाकों में फिर हिमपात की संभावना है। दो व तीन मार्च को राज्य के मैदानी और मध्यवर्ती इलाकों में तेज ओलावृष्टि होगी। जिस तरह से मौसम करवट बदल रहा है, इससे जाहिर है कि मार्च महीने का पहला सप्ताह भी शीतलहर के दौर से गुजरना पड़ेगा।

कुल्लू-मनाली नेशनल हाईवे 16 मील के पास भूस्खलन के कारण 12 घंटे बाधित रहा। कोठी में इस सीजन में 20 फुट बर्फबारी हुई है। जिला मंडी में ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बर्फबारी जबकि निचले क्षेत्रों में बारिश हुई। माता शिकारी देवी में बर्फबारी की तह आठ फीट और बड़ादेव कमरूनाग में करीब छह फीट तक बढ़ गई है। चंबा जिले के डलहौली व बनीखेत में दो इंच बर्फबारी हुई।

शिमला में बर्फबारी ने तोड़ा 17 साल का रिकॉर्ड
हिमाचल में इस सीजन में अब तक दस बार बर्फबारी हुई है। शिमला में बर्फबारी ने 17 वर्षो का रिकॉर्ड तोड़ा है। शिमला में वर्ष 2018-19 में दिसंबर से फरवरी तक 125 सेंटीमीटर बर्फबारी हो चुकी है। वर्ष 2002-03 के दौरान 62 सेंटीमीटर बर्फबारी हुई थी जबकि बुधवार को पांच सेंटीमीटर बर्फबारी हुई।

303 सड़कों पर यातायात अवरुद्ध 
बर्फबारी के कारण पांच नेशनल हाइवे सहित 303 सड़कों के अवरुद्ध होने के कारण परिवहन व्यवस्था पटरी से उतर गई। शिमला जिले के ऊपरी इलाके दिन भर राजधानी से कटे रहे। सबसे अधिक 173 सड़कें शिमला ज़ोन में अवरुद्ध हुई हैं। शिमला जिले में बर्फबारी में 70 से अधिक निगम की बसें फंस गई हैं। इनमें यातायात बहाल करने के लिए 302 मशीनें तैनात की गई हैं। इनमें विभागीय और निजी मशीने दोनों शामिल हैं। सर्दी के मौजूदा सीजन में लोक निर्माण का नुकसान लगातार बढ़ रहा है। अब यह नुकसान बढ़कर 226 करोड़ रुपये हो गया है। अभी शिमला जोन की 173, मंडी जोन की 81, कांगड़ा जोन की 44 सड़कें व पांच राष्ट्रीय राजमार्ग बंद हैं। हमीरपुर जोन की एक भी सड़क यातायात के लिए बाधित नहीं है।

मंडी व शिमला में आज स्कूल बंद
बर्फबारी व बारिश के कारण मंडी जिले में वीरवार को शीतकालीन स्कूल बंद रहेंगे। वहीं, राजधानी शिमला में भी बर्फबारी के कारण कई स्कूल वीरवार को बंद रहेंगे।

दो से चार मार्च तक बर्फबारी की चेतावनी
मौसम विभाग के अनुसार 28 फरवरी व पहली मार्च को मौसम साफ रहने के आसार हैं। दो से चार मार्च तक प्रदेश के ऊंचे क्षेत्रों में बर्फबारी और मध्य व निचले क्षेत्रों में ओलावृष्टि की चेतावनी जारी की गई है।

यहां हुई बर्फबारी 
मौसम विभाग द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक मुताबिक बीते कुफरी, कल्पा और कसौली में 10, खदराला में 7, जुब्बल, शिमला और मशोबरा में 5, सराहन में 4, मनाली, डलहौजी, जनझेहली और कोठी में 3 सेंटीमीटर ताज़ा बर्फबारी हुई है।

"आज और कल राज्य में मौसम साफ रहेगा। लेकिन दो से पांच मार्च तक पहाड़ी इलाकों में फिर हिमपात की संभावना है। दो व तीन मार्च को राज्य के मैदानी और मध्यवर्ती इलाकों में तेज ओलावृष्टि होगी।" 
मनमोहन सिंह : निदेशक, मौसम विज्ञान केंद्र - शिमला

Have something to say? Post your comment
और देश खबरें