हिंदी ENGLISH ਪੰਜਾਬੀ Saturday, December 14, 2019
Follow us on
 
हिमाचल

नहीं रहे पहाड़ी लोकगायक गिरधारी लाल वर्मा

हिमाचल न्यूज़ | April 03, 2019 07:22 PM

हिमाचल न्यूज़ 

हमीरपुर  : हिमाचली पहाड़ी गीतों के रचयिता और गायक गिरधारी लाल वर्मा का  बुधवार को निधन हो गया। 62 वर्षीय गिरधारी लाल वर्मा का जन्म 15 नवंबर, 1955 को हुआ था ।वह मूल रूप से हमीरपुर ज़िला के गलोड क्षेत्र के रहने वाले थे लेकिन व्यवसाय के चलते अब वह परिवार सहित हमीरपुर नगर में ही अपने मकान में रह रहे थे । बुधवार  सुबह पांच बजे के क़रीब जैसे ही उन्हें हार्ट अटेक हुआ, परिवार के सदस्य उन्हें मेडिकल कालेज अस्पताल हमीरपुर ले आए । उनकी गम्भीर हालत को देखते हुए डाक्टरों ने टाँडा रेफ़र कर दिया । परिवार के सदस्य उन्हें गम्भीर हालत में पीजीआई  चंडीगढ़ लेकर चले लेकिन ऊना के पास पहुंचते ही क़रीब दस बजे गिरधारी लाल वर्मा ने अंतिम सांस ली। गिरधारी लाल वर्मा अपने पीछे दो बेटे व एक बेटी को रोता बिलखता छोड़ गये।

दिवंगत गिरधारी लाल वर्मा को  संगीत की प्रेरणा श्री राम नाटक क्लब द्वारा की जाने वाली रामलीलाओं से मिली । बाद में उनके गाए लोकगीत आकाशवाणी शिमला और  एफ एम हमीरपुर पर भी गूंजना शुरू हो गये । उन्होंने लगभग 150 पहाड़ी गीत लिखे और उन्हें स्वयं ही इन्हें गाया। टी सीरिज़ के साथ मिल उनकी कई धार्मिक व पहाड़ी संगीत की एलबम निकली जिन्हें लोगों ने ख़ूब पसंद किया । गिरधारी लाल वर्मा की सन 2000 में आई एलबम मणि महेशा जो जाना ,2002 में सुन लो किरण मैया दी कहानी और चलो यात्रा नू चलिए मैया दे , ,2004 में कथा बाबा बालक रूपी जी ,2006 में पच्चिया दी गिनती , धूडु नचिया जटा ओ खलारी हो जैसी एलबम व गाए गये भजन आज भी जागरण समारोह में कलाकारों द्वारा गाए जाते हैं।  लोकगायक गिरधारी लाल वर्मा के निधन की सूचना मिलते  ही संगीत के चाहवानों  को धक्का लगा है और कलाप्रेमियों में मायूसी छा गयी।

 

 

 

 

 

Have something to say? Post your comment
और हिमाचल खबरें
डोभी में पैराग्लाइडिंग हादसे में सैलानी सहित 2 की मौत
हर संस्थान की हो आपदा प्रबंधन योजना: यूनुस
लगघाटी में एक निजी बस दुर्घटनाग्रस्त, एक की मौत
कांग्रेस का हाथ आतंकियों के साथ,देशद्रोह क़ानून हटाने के पीछे देशविरोधी ताक़तों को संरक्षण देने की मंशा:अनुराग ठाकुर
कांग्रेस की देशद्रोही मानसिकता का जवाब लोकसभा चुनावों में देगी जनता : सुरेश भारद्वाज
प्रार्थी ने प्रदेश में लिखी है विकास की इबारत...सत्य प्रकाश ठाकुर
आचार संहिता के दौरान अब तक 5.27 करेाड़ की शराब जब्त
पण्डित सुखराम आया राम गया राम राजनीति की संस्कृति के प्रतीक -चंद्रमोहन
बंजार में हुआ रोजगार मेले का आयोजन-90 दिव्यांगों को मिला रोजगार
चुनाव अवधि में बी.आर.ओ. से रोहतांग सुरंग खोलने का आग्रह