Follow us on
 
हिमाचल

कोरोना को मात देने वाली महिला से मिले डीसी

हिमाचल न्यूज : ऊना | May 22, 2020 06:20 PM
कोरोना को मात देने वाली अंब उपमंडल की महिला से उपायुक्त ऊना संदीप कुमार ने आज घर जाकर मुलाकात की। इस दौरान महिला के परिवार के सदस्य भी उपस्थित रहे। डीसी ने महिला व परिवार के सदस्यों का हाल जाना और कहा कि छोटी बच्ची को छोड़कर कोरोना से लड़ाई अकेले जीतकर उन्होंने एक नई मिसाल कायम की है। यह बहुत खुशी का समय है, जब वह स्वस्थ होकर अपने परिवार में सकुशल लौट आई हैं। डीसी ने कहा कि कोरोना जैसी बीमारी से डरने की आवश्यकता नहीं है, बल्कि सतर्क रहने की आवश्यकता है। कोरोना को लेकर किसी भी स्तर पर सामाजिक भेदभाव नहीं होना चाहिए तथा लोगों को भी इस बारे में जागरूक होना जरूरी है। कोरोना कोई सामाजिक कलंक नहीं है और कोरोना रोगियों तथा उनके परिवारों के प्रति भी किसी तरह का भेदभाव का दृष्टिकोण समाज में नहीं पनपना चाहिए।

डीसी ने अस्पताल में उनके इलाज के अनुभव तथा उन्हें प्रदान की गई अन्य सुविधाओं के बारे में जानकारी हासिल की। महिला ने बताया कि इलाज के लिए उन्हें राधा स्वामी अस्पताल भोटा ले जाया गया था और अस्पताल में डॉक्टरों व पैरा मेडिकल स्टाफ ने नियमित तौर पर उनकी जांच की। उन्होंने बेहतर सुविधाएं प्रदान करने के लिए प्रदेश सरकार का आभार जताया।
 
महिला ने बताया कि इलाज के दौरान उनकी दवाईयों से लेकर खाने-पीने का उचित ध्यान रखा गया। अपने धर्मगुरू पर उन्हें अटूट विश्वास रहा और यही ताकत उनके स्वस्थ होने के लिए काम आई। महिला के परिवार के सदस्यों ने भी जिला प्रशासन द्वारा दिए गए सहयोग के लिए आभार व्यक्त किया। उन्होंने बताया कि दिल्ली से वापस हिमाचल प्रदेश लौटने पर पूरे परिवार को ऊना में संस्थागत क्वारंटीन में रखा गया था और कोविड-19 टेस्ट कराने के बाद रिपोर्ट में महिला पॉजीटिव आई थी, जबकि साथ आए महिला के पति, बच्ची और सास की रिपोर्ट नेगेटिव रही थी। इस दौरान सीएमओ ऊना डॉ. रमण कुमार शर्मा तथा डॉ. अजय अत्री भी उनके साथ रहे। 
 
डीसी ने गगरेट में संस्थागत क्वारंटीन सेंटर में रहे लोगों से की मुलाकात, बढ़ाया हौसला
पंजाब के रेड जोन क्षेत्रों से लौटे व्यक्तियों के लिए गगरेट में बनाए गए संस्थागत क्वारंटीन सेंटर का आज उपायुक्त ऊना संदीप कुमार दौरा किया और यहां रखे गए लोगों का हौसला बढ़ाया। डीसी ने कहा कि किसी भी व्यक्ति को घबराने की आवश्यकता नहीं है और बाहर से आए लोगों का जिला प्रशासन मेहमानों की तरह ध्यान रख रहा है। एहतियात के तौर पर उन्हें क्वारंटीन किया गया है। उनके लिए खाने-पीने की व्यवस्था तथा अन्य सभी जरूरी इंतजाम किए गए हैं। 5 से 6 दिन के बाद उनके कोविड-19 टेस्ट किए जाएंगे और रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद उन्हें बाकी की क्वारंटीन अवधि के लिए घरों को भेज दिया जाएगा। सरकार की गाइडलाइंस के अनुसार बाहर से आने वाले लोगों के लिए 14 दिन की क्वारंटीन अवधि को पूरा करना आवश्यक है।

डीसी ने क्वांरटीन सेंटर के स्टाफ व अधिकारियों से बातचीत की और कहा कि गर्भवती महिलाओं, नवजात शिशु की माताओं, वरिष्ठ नागरिकों तथा अन्य किसी गंभीर बीमारी से ग्रस्त मरीजों का विशेष ध्यान रखा जाए और आवश्यकतानुसार उन्हें संस्थागत क्वारंटीन से निकालकर होम क्वारंटीन में शिफ्ट किया जाए। उन्होंने कहा कि इस संबंध में अंतिम फैसला चिकित्सा विभाग के डॉक्टर करेंगे। 

इस दौरान एसडीएम विनय मोदी, सीएमओ ऊना डॉ. रमण कुमार शर्मा तथा डॉ. अजय अत्री, डॉ, निखिल शर्मा तथा डीएसपी मनोज जम्वाल उपस्थित रहे। 

कोविड केयर सेंटर खड्ड का किया निरीक्षण
इसके बाद जिला दंडाधिकारी ने कोविड केयर सेंटर खड्ड का निरीक्षण किया और स्टाफ को हर चीज का रिकॉर्ड रखने के निर्देश दिए और मरीजों को दी जा रही सुविधाओं के बारे में जानकारी हासिल की। इस दौरान एसडीएम हरोली गौरव चौधरी उनके साथ रहे।
 

Himachal News की खबरों के वीडियो देखने के लिए और Updates के लिए हमारे Facebook Page Himachal News7 और Himachal News TV को Like करें व हमारे YouTube चैनल Himachal News TV को Subscribe करें।
Have something to say? Post your comment
और हिमाचल खबरें