हिंदी ENGLISH ਪੰਜਾਬੀ Friday, December 06, 2019
Follow us on
 
जरा हट के

आज भी कौतूहल का विषय है ग्यू की ममी

October 29, 2018 07:54 AM

हिमाचल न्यूज़

हिमाचल की स्पीति घाटी जहां बौद्ध मठों व रेत की दृश्यावलियों के कारण विश्व विख्यात है, वहीं यहां ऐसा बहुत कुछ है, जो हैरान करने वाला है। यहां के एक गांव में एक लामा की ममी का अस्थि पिंजर बैठी हुई मुद्रा में अभी तक सलामत है। अभी भी उसके सिर पर बाल हैं।


यह छोटा सा गांव ठंडे रेगिस्तान स्पीति के दूसरे गांवों की तरह है, मगर यहां जो सबसे अलग है वह अभी भी सुरक्षित हालत में एक लामा की ममी का अस्थि-पिंजर, जिसे देखना कोई नहीं भूलता। किसी जाने माने सिद्ध लामा का अस्थि-पिंजर होने के कारण यह गांव बौद्ध धर्म के अनुयायियों के लिए एक तीर्थ जैसा बन गया है।


चीन के अधिकार वाले तिब्बत की सीमा से कुछ ही दूरी पर स्पीति का समदो की ओर से पहला गांव है गियू, जो समदो काजा सड़क से कुछ हटकर एक संपर्क सड़क से जुड़ा हुआ है। बताया जाता है कि 1987 में इस गांव के लिए जब सड़क का निर्माण हो रहा था, तो सेना की सड़क निर्माण कंपनी के मजदूरों को खुदाई के दौरान गांव से कुछ दूरी पर एक सुरक्षित व ताजा दिखने वाला अस्थि-पिंजर नजर आया। इसे देखते हुए यहां खुदाई बड़ी सावधानी से की गई और समूचे अस्थि-पिंजर को ज्यूं का त्यूं ही निकाला गया। इस अस्थिपिंजर को लगभग सौ साल पुराना माना गया। यह एक लामा की ममी है। जिस पर बाल ज्यूं के त्यूं कायम थे तथा हाथ-पैरों के नाखून बढ़े हुए थे। मांस हड्डियों से चिपका हुआ और यह अस्थि-पिंजर माधि मुद्रा में था।


गांव वाले बताते हैं कि यह उनके गांव का लामा नहीं था, बल्कि जिस तरह से यह कंदरा में समाधिरत पाया गया, उससे माना जाता है कि यह कोई जाना माना लामा था, जो यहीं पर तपस्यारत रहा और यहीं समाधि भी ले ली। लोगों की मदद से सेना के जवानों ने इसे उठाकर गांव में ले जाकर वहां पर छोटा सा मंदिर बना कर उसमें इसे रख दिया।


इस अस्थिपिंजर को देखने के लिए दूर-दूर से सैलानी आते हैं। गांव के लोग इसकी विधिवत रूप से पूजा-अर्चना करते हैं। एक विस्मयकारी हालत व मुद्रा में मिला एक लामा की ममी का यह अस्थिपिंजर अब पर्यटकों के लिए कौतूहल का विषय बना हुआ है और इस कारण यह गांव भी विश्व विख्यात हो गया है।


स्पीति में चूंकि वातावरण ठंडा ही रहता है ऐसे में यह माना जाता है कि कोई तपस्वी लामा एक निर्जन, कोलाहल से दूर, सुविधाविहिन कंदरा में तपस्या करते-करते यहीं पर समाधि लगा गया।

Have something to say? Post your comment
और जरा हट के खबरें