हिंदी ENGLISH ਪੰਜਾਬੀ Monday, November 19, 2018
Follow us on
पर्यटन

यहां बारिश होना किसी अजूबे से कम नही

November 02, 2018 07:55 AM

हिमाचल न्यूज़

हिमाचल की लाहुल स्पीती के किब्बर की धरती पर बारिश का होना किसी अजूबे से कम नही होता। बादल यहां आते तो हैं लेकिन शायद इन्हें बरसना नहीं आता और ये अपनी झलक दिखाकर लौट जाते हैं। एक तरह से बादलों को सैलानियों का खिताब दिया जा सकता है जो घूमते, टहलते इधर घाटियों में निकल आते हैं और कुछ देर विश्राम कर पर्वतों के दूसरी ओर रुख कर लेते हैं। यही वजह है कि किब्बर में बारिश हुए महीनों बीत जाते हैं। यहां के बाशिंदे सिर्फ बर्फ से साक्षात्कार करते हैं और बर्फ भी इतनी कि कई-कई फुट मोटी तहें जम जाती हैं। जब बर्फ पड़ती है तो किब्बर अपनी ही दुनिया में कैद होकर रह जाता है और गर्मियों में धूप निकलने पर बर्फ पिघलती है तो किब्बर गांव सैलानियों की चहलकदमी का केंद्र बन जाता है।

बस थोड़ा सा हवा में ऊपर उठो और छू लो आसमान 

समुद्र तल से (4,850) मीटर की ऊंचाई पर स्थित किब्बर गांव में खड़े होकर यूं लगता है मानो आसमान ज्यादा दूर नहीं है। बस थोड़ा सा हवा में ऊपर उठो और आसमान छू लो। यहां खड़े होकर दूर-दूर तक बिखरी मटियाली चट्टानों, रेतीले टीलों और इन टीलों पर बनी प्राकृतिक कलाकृतियों से रूबरू हुआ जा सकता है। लगता है कि इस धरती पर कोई अनाम कलाकार आया होगा जिसने अपने कलात्मक हाथों से इन टीलों को कलाकृतियों का रूप दिया और फिर इन कलाकृतियों में रूह फूंककर यहां से रुखसत हो गया। सैलानी जब इन टीलों से मुखातिब होते हैं तो इनमें बनी कलाकृतियां उनसे संवाद स्थापित करने को आतुर प्रतीत होती हैं। बहुत से सैलानी इन कलाकृतियों और टीलों को अपने कैमरे में उतार कर साथ ले जाते हैं।

गोंपाओं और मठों की धरती

किब्बर गांव हिमाचल प्रदेश के दुर्गम जनजातीय क्षेत्र स्पीति घाटी में स्थित है, जिसे ‘शीत-मरुस्थल‘ के नाम से भी जाना जाता है। गोंपाओं और मठों की इस धरती में प्रकृति के विभिन्न रूप परिलक्षित होते हैं। कभी घाटियों में फिसलती धूप देखते ही बनती है तो कभी खेतों में झूमती फसलें मन मोह लेती हैं। कभी यह घाटी बर्फ के दोशाले में दुबक जाती है तो कभी बादलों के टुकड़े यहां के खेतों और घरों में बगलगीर होते दिखते हैं। घाटी में कहीं सपाट बर्फीला रेगिस्तान है तो कहीं हिम शिखरों में चमचमाती झीलें। किब्बर गांव में पहुंचना भी आसान नहीं हैं। कुंजम दर्रे को नापकर सैलानी स्पीति घाटी में दस्तक देते हैं। इसके बाद 12 किमी. का रास्ता काफी दुरूह है, लेकिन ज्यों ही लोसर गांव में पहुंचते हैं, शरीर ताजादम हो उठता है। स्पीति नदी के दाई ओर स्थित लोसर, स्पीति घाटी का पहला गांव है। लोसर से स्पीति उपमंडल के मुख्यालय काजा की दूरी 56 किमी. है और रास्ते में हंसा, क्यारो, मुरंग, समलिंग, रंगरिक जैसे जैसे कई खूबसूरत गांव आते हैं। काजा से किब्बर 20 किमी दूर है।

लोक संस्कृति का अनोखा मेल

यहां के लोग नाच-गानों के बहुत शौकीन हैं। यहां के लोकनृत्यों का अनूठा ही आकर्षण है। यहां की युवतियां जब अपने अनूठे परिधान में नृत्यरत होती हैं तो नृत्य देखने वाला मंत्रमुग्ध हो उठता है। ‘दक्कांगमेला‘ यहां का मुख्य उत्सव है जिसमें किब्बर के लोकनृत्यों के साथ-साथ यहां की अनूठी संस्कृति से भी साक्षात्कार किया जा सकता है। किब्बर वासियों का पहनावा भी निराला है। औरतें और मर्द दोनों ही चुस्त पायजामा पहनते हैं। सर्दी से बचने के लिए पायजामे को जूते के अंदर डालकर बांध दिया जाता है। इस जूते को ‘ल्हम’ कहा जाता है। इस जूते का तला तो चमड़े का होता है और ऊपरी हिस्सा गर्म कपड़े से निर्मित होता है। गांव की औरतों के मुख्य पहनावे हैं-हुजुक, तोचे, रिधोय, लिगंचे और शमों। सर्दियों में यहां की औरतें ‘लोम’, फर की एक खूबसूरत टोपी पहनती हैं। इसे शमों कहा जाता है। गांव के मर्द और औरतें गहनों के भी बहुत शौकीन हैं। किब्बर गांव में शादी की परंपराएं भी निराली हैं। प्राचीन समय से ही यहां शादी की एक अनूठी प्रथा रही है। इस प्रथा के अनुसार अगर किसी युवती को कोई लड़का पसंद आ जाए तो वह युवती से किसी एकांत स्थल में मिलता है और उसे कुछ धनराशि भेंट करता है, जिसे स्थानीय भाषा में ‘अंग्या’ कहा जाता है। यदि लड़की इस भेंट को स्वीकार कर ले तो समझा जाता है कि वह शादी के लिए रजामंद है। लेकिन अगर लड़की भेंट स्वीकार करने से इंकार कर दे तो यह उसकी विवाह के प्रति अस्वीकृति मानी जाती है।

किब्बर में आकर जब सैलानी यहां की प्राकृतिक छटा, अनूठी संस्कृति, निराली परंपराओं और बौद्ध मठों से रूबरू होते हैं तो वे स्वयं को एक नई दुनिया में पाते हैं। किब्बर में एक बार की गई यात्रा की स्मृतियां ताउम्र के लिए उनके मानसपटल पर अंकित हो जाती हैं।

 फोटो एवं विवरण : रमेश कंवर 

Have something to say? Post your comment