हिंदी ENGLISH ਪੰਜਾਬੀ Wednesday, December 19, 2018
Follow us on
राज्य

धर्म वही जिसे धारण करने से स्वयं भी सुखी और अन्य भी सुखी

हिमाचल न्यूज़ | December 01, 2018 07:03 PM
अम्बाला : हरियाणा के अम्बाला शहर में ‘मेरा आसमान’ संस्था द्वारा आयोजित राष्ट्र त्रिवेणी कार्यक्रम के अवसर पर राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने कहा कि धर्म वही है, जिसके धारण करने से व्यक्ति स्वयं भी सुखी होता है और पूरा समाज भी सुखी होता है।
 
उन्होंने कहा कि युद्ध और द्वन्द पहले मन में शुरू होता है, इसलिए मन को साधना सबसे ज्यादा जरूरी है। उन्होंने कहा कि धार्मिक होने के 10 लक्षणों का शास्त्रों में उल्लेख किया गया, परन्तु उन में से एक भी पूरी तरह अपना लिया जाए तो व्यक्ति कल्याण को प्राप्त कर सकता है।
राज्यपाल ने कहा कि पण्डित विजय शंकर मेहता ने धर्म से जुड़े विभिन्न पहलुओं का वैज्ञानिक विश्लेषण कर ऐसा चिन्तन दिया है, जिससे दैनिक कार्य शुभ और आन्नद से परिपूर्ण हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि धर्म से जुड़े मुददों को वैज्ञानिक दृष्टिकोण से देखना जरूरी है, जिससे यह विषय ज्यादा लोगों तक पहुंच पाएगा। 
Have something to say? Post your comment
और राज्य खबरें