हिंदी ENGLISH Wednesday, September 30, 2020
Follow us on
 
कविता
युद्ध के दोहे

शत्रु पर न करें कभी, आप पूर्ण विश्वास। बदले की मिटती नहीं, कभी अधूरी प्यास।।