हिंदी ENGLISH Saturday, October 16, 2021
Follow us on
 
कविता
बेटी हूं हिन्दुस्तान की

बेटी हूं हिन्दुस्तान की, सब पर मैं भारी हूं।

भारतवर्ष है जान मेरी, समाज की जिम्मेदारी हूं॥

युद्ध के दोहे

शत्रु पर न करें कभी, आप पूर्ण विश्वास। बदले की मिटती नहीं, कभी अधूरी प्यास।।