हिंदी ENGLISH Monday, December 05, 2022
Follow us on
 
हमारे देवी-देवता
गोशाला कोठी के देवता श्री बुंगड़ू महादेव

बंजार विकास खंड के तहत गोशाला गांव कोठी गोपालपुर के देवता श्री बुंगड़ू महादेव जब से अंतर्राष्ट्रीय कुल्लू दशहरा की शुरूआत हुई है तब से निरंतर कुल्लू दशहरा में आ रहे हैं। इस सम्बंध में गोशाला गांव कोठी गोपालपुर के कारदार नरोत्तम नेगी का कहना है कि जब से कुल्लू दशहरा की शुरूआत हुई है तब से देवता श्री बुंगड़ू महादेव लगातार दशहरे में भगवान रधुनाथ जी के दर्शनार्थ आ रहे हैं।

भस्मासुर से बचने के यहां छुपे थे शिव

हिमाचल प्रदेश देवभूमि है. यहां ज़र्रे-ज़र्रे पर हजारों देवी-देवताओं का वास है. प्रदेश के कण-कण में आस्था रमी हुई है. हर छोटे-बड़े मंदिरों सहित ऊंचे पहाड़ों पर बसे आस्था के प्रतीक स्थलों की अनूठी कहानी है. पांडुलिपियों, शिलालेखों, अभिलेखों और दंतकथाओं के आधार समस्त प्रदेश में इन परंपराओं और मान्यताओं का प्रचलन है. इसी तरह हिमालय की गोद में करीब 20 हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित श्रीखंड कैलाश में महादेव शिव वास को लेकर भी मान्यता है कि वे भस्मासुर से बचते हुए यहां आए थे.