ई-कैबिनेट प्रणाली लागू करने वाला देश का पहला राज्य बना हिमाचल, जानिए क्या क्या है खासियत
 ई विधानसभा के बाद अब हिमाचल कैबिनेट भी हाई टैक हो गई है। आज ई-कैबिनेट एप्लीकेशन द्वारा पहली ई-कैबिनेट बैठक आयोजित की गई। हिमाचल ने कैबिनेट ज्ञापन और कैबिनेट की कार्यवाही को कागज रहित बनाकर देश का पहला राज्य बनकर एक और उपलब्धि अपने नाम की है। ई-कैबिनेट के लिए सूचना प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा आईटी एप्लीकेशन को विकसित किया गया है और यह पूरे देश में इस तरह का पहला ऐसा इलेक्ट्रोनिक्स प्लेटफॉर्म है।
पोलियो से ऐसे लड़ेगा चंबा
राष्ट्रीय पल्स पोलियो प्रतिरक्षण अभियान 2021 के तहत उपायुक्त चंबा डीसी राणा की अध्यक्षता में जिला टास्क फोर्स (आईपीपीआई) की बैठक का आयोजन उपायुक्त कार्यालय चंबा के सभागार में किया गया।
केन्द्रीय बजट में हिमाचल को रेल विस्तार के लिए 720 करोड़ : अनुराग ठाकुर
केंद्रीय वित्त एवं कॉरपोरेट अफ़ेयर्स राज्यमंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने बताया कि वित्तवर्ष 2020-21 के लिए हिमाचल प्रदेश में रेलवे विस्तार के लिए 720 करोड़ रुपए मिले हैं। उन्होंने कहा कि कहा केंद्र सरकार हिमाचल प्रदेश में इंफ़्रास्ट्रक्चर विस्तार और रोज़गार के अवसर उपलब्ध कराने के लिए कटिबद्ध है।
हिमाचल प्रदेश मंत्रिमण्डल की बैठक में आज लिए ये बड़े फैसले
हिमाचल प्रदेश मंत्रिमण्डल की बैठक शिमला में मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर की अध्यक्षता में आयोजित हुई। बैठक में राज्यपाल से 26 फरवरी से 20 मार्च, 2021 तक हिमाचल प्रदेश विधानसभा के बजट सत्र आयोजित करने की संस्तुति करने का निर्णय लिया गया। बजट सत्र में 17 बैठकें आयोजित करवाई जाएंगी।
हिमाचल कैबिनेट के फैसले : 26 फरवरी से 20 मार्च तक होगा बजट सत्र, इस दिन पेश होगा बजट
हिमाचल प्रदेश विधान सभा का बजट सत्र 26 फरवरी से 20 मार्च तक होगा। बजट सत्र में कुल 17 बैठकें होंगी। 6 मार्च को मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर वित्तीय वर्ष 2021-22 का बजट पेश करेंगे। जयराम सरकार का यह चौथा बजट होगा। यह फैसला आज मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल की बैठक में लिया गया।  
मुख्यमंत्री ने किया स्वर्णिम वाटिका कार्यक्रम का शुभारंभ, यह होगी खासियत
हिमाचल प्रदेश के पूर्ण राज्यत्व के गौरवशाली 50 वर्षों के उपलक्ष्य में आयोजित किए जा रहे कार्यक्रमों की श्रृंखला के अंतर्गत मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज शिमला के निकट करेरू वन भूमि में चेरी ब्लॉसम, जिसे पाजा के रूप में भी जाना जाता है, का पौधा रोपा। उन्होंने वन विभाग द्वारा प्रदेश के विभिन्न भागों में स्वर्णिम वाटिका स्थापित करने के कार्यक्रम का शुभारंभ किया, जो वर्ष भर चलेगा।