हिंदी ENGLISH Tuesday, May 17, 2022
Follow us on
 
आज विशेष

ब्रिटिश हुकूमत के खिलाफ झारखंड आदिवासियों की आजादी की पहली लड़ाई थी “हूल क्रांति”

नेशनल न्यूज नेटवर्क : दिल्ली | June 30, 2020 09:06 AM
हूल क्रांति | Photo : Wikimedia

ब्रिटिश हुकूमत के खिलाफ झारखंड आदिवासियों की आजादी की पहली लड़ाई “हूल क्रांति” थी। 30 जून हूल दिवस को क्रांति दिवस रूप में मनाया जाता है। इसे संथाल विद्रोह भी कहा जाता है। यह अंग्रेजों के खिलाफ आजादी की पहली लड़ाई थी। इस लड़ाई का नेतृत्व सर्वप्रथम संथाल परगना के भोगनाडीह में सिदो-कान्हू ने किया था।

अंग्रेजों के जुल्म, शोषण और अत्याचार के विरुद्ध अनुसूचित जनजाति एवं अनुसूचित जाति वर्गों ने बिगुल फूंका। इस चिंगारी की लपटें पूरे हजारीबाग, बड़कागांव, टंडवा, चतरा, रामगढ़, रांची तक पहुंच गया था। विद्रोहियों ने हजारीबाग जेल तक में आग लगा दी थी। विद्रोह में संताल और अन्य जातियों के हजारों लोगों ने अपनी कुर्बानी दी। उस विद्रोह को दबाने के लिए अंग्रेज सेना को एड़ी-चोटी एक करना पड़ा। संताल विद्रोह के बाद ही संताल बहुल क्षेत्रों को भागलपुर और वीरभूम से अलग किया गया और उसे 'संताल परगना' नाम से वैधानिक जिला बनाया गया। 

हूल क्रांति | Photo : Wikimedia
  

क्‍यों मनाते हैं हूल दिवस
संथाली भाषा में हूल का अर्थ होता है विद्रोह। 30 जून, 1855 को झारखंड के आदिवासियों ने अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ विद्रोह का बिगुल फूंका और 400 गांवों के 50,000 से अधिक लोगों ने भोगनाडीह गांव पहुंचकर जंग का एलान कर दिया। यहां आदिवासी भाई सिदो-कान्‍हू की अगुआई में संथालों ने मालगुजारी नहीं देने के साथ ही अंग्रेज हमारी माटी छोड़ों का एलान किया। इससे घबरा कर अंग्रेजों ने विद्रोहियों का दमन प्रारंभ किया। अंग्रेजी सरकार की ओर से आये जमींदारों और सिपाहियों को संथालों ने मौत के घाट उतार दिया। इस बीच विद्रोहियों को साधने के लिए अंग्रेजों ने क्रूरता की हदें पार कर दीं। बहराइच में चांद और भैरव को अंग्रेजों ने मौत की नींद सुला दिया, तो दूसरी तरफ सिदो और कान्हू को पकड़ कर भोगनाडीह गांव में ही पेड़ से लटका कर 26 जुलाई, 1855 को फांसी दे दी गयी। इन्हीं शहीदों की याद में हर साल 30 जून को हूल दिवस मनाया जाता है। इस महान क्रांति में लगभग 20,000 लोगों को मौत के घाट उतारा गया। 

हूल क्रांति | Photo : Youtube
  

Posted By : Himachal News

Have something to say? Post your comment
और आज विशेष खबरें
अखंड सुहाग का व्रत हरितालिका तीज आज, जानें पूजन का शुभ मुहूर्त और व्रत विधि
हिमाचल से रहा है अटल बिहारी वाजपेयी का गहरा नाता
अटल बिहारी वाजपेयी के जीवन से जुड़े वो पहलू, जिन्हें आप जरूर जानना चाहेंगे
पश्चिम बंगाल के इस इलाके में 15 नहीं 18 अगस्त को मनाते हैं स्वतंत्रता दिवस, जानिए बजह
हिमाचल के इस इलाके में 15 नहीं, 16 अगस्त को मनाया जाता है स्वतंत्रता दिवस, जानिए बजह
शिमला की इस ईमारत में लिखी गई थी भारत विभाजन की पटकथा
नहीं रहे मशहूर शायर राहत इंदौरी : जानिए उनके जीवन के अनछुए पहलू
श्रीकृष्ण जन्माष्टमी : 11 अगस्त को मनाना श्रेष्ठ
हिमाचल ने याद किए हिमाचल निर्माता डा. यशवंत सिंह परमार
जानिए श्रावण मास में क्या है रूद्राभिषेक का महत्त्व