हिंदी ENGLISH Monday, September 28, 2020
Follow us on
 
हिमाचल

काष्ठकुणी शैली में बनेगा आईआईएम धौलाकुआं का परिसर, देखिए तस्वीरें

हिमाचल न्यूज : नाहन (सिरमौर) | August 05, 2020 12:35 PM
PHOTO : IIM Dhaulakuan

हिमाचल न्यूज : नाहन (सिरमौर)

हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिला में आईआईएम (इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट) का धौलाकुआं परिसर काष्ठकुणी शैली में बनाया जाएगा। परिसर का डिजाइन ब्रिटिशकाल में बनी इमारतों की तर्ज पर तैयार किया गया है।

PHOTO : IIM Dhaulakuan
    

पहले चरण में हॉस्टल सहित अध्ययन से जुड़ी सुविधाएं उपलब्ध होंगी। इसमें 600 विद्यार्थियों के बैठने की क्षमता होगी। मेडिकल यूनिट अलग से होगी, जिसमें विद्यार्थियों के इलाज की सुविधा होगी। वर्तमान में यहां करीब 340 विद्यार्थी शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। 

PHOTO : IIM Dhaulakuan
    

नाहन-पांवटा साहिब नेशनल हाईवे पर धौलाकुआं में आईआईएम के लिए लगभग 210 एकड़ जमीन चिह्नित की गई है। केंद्र ने आईआईएम के पहले चरण को 392.51 करोड़ का बजट स्वीकृत किया है। 

PHOTO : IIM Dhaulakuan
    

आईआईएम हिमाचल प्रदेश को वर्ष 2014 में प्रदान किया गया था। वर्ष 2015 से यह पांवटा साहिब में एक किराये के भवन में चल रहा है।  तब से यह संस्थान तेजी से आगे बढ़कर एक प्रमुख संस्थान बनकर उभर रहा है।

PHOTO : IIM Dhaulakuan
    

यह संस्थान सुन्दर व शांत भू-दृश्य और शांतिपूर्ण वातावरण में विद्यार्थियों को बेहतर शैक्षणिक माहौल प्रदान करेगा। प्रदेश के पर्यटन, ऊर्जा, उद्योग, इको-टूरिजम आदि प्राकृतिक संभावनाओं के प्रभावी प्रबन्धन में यह संस्थान वरदान साबित होगा।

PHOTO : IIM Dhaulakuan
    

आईआईएम धौलाकुआं का परिसर देश में बने अन्य आईआईएम परिसरों से अलग होगा। इसे हिमाचली रंग देने का प्रयास किया गया है। इस संस्थान के सम्पूर्ण परिसर का डिजाइन पारम्परिक हिमाचली शिल्प में तैयार किया है। भवनों के निर्माण में हिमाचल की काष्ठकुणी शैली का रूप दिया जाएगा। पूर्ण रूप से तैयार होने पर यह संस्थान न केवल अग्रणी शिक्षण संस्थान के रूप में उभरेगा बल्कि पर्यटकों के लिए भी आकर्षण का केन्द्र होगा।

PHOTO : IIM Dhaulakuan
    

काष्ठकुणी शैली हिमाचल की प्रसिद्ध भवन निर्माण है। काष्ठ या काठ लकड़ी को कहते हैं और कुणी हिमाचली बोली का शब्द है जिसका अर्थ है कोना। भवन निर्माण की इस शैली में ईमारत के हर कोने को सिर्फ लकड़ी से ही बनाया जाता है। 

PHOTO : IIM Dhaulakuan
    

आईआईएम के भवन ब्रिटिशकाल में बनने वाले बंगलों की तर्ज पर डिजाइन किए गए हैं। पहले चरण में हॉस्टल, स्टूडेंट एक्टिविटि कैंपस, फैकल्टी एंड स्टाफ रेजिडेंस, कम्यूनिटी सेंटर, अकादमिक ब्लॉक, कंप्यूटर सेंटर, लाइब्रेरी, कॉन्फ्रेंस सेंटर, एडमिनिस्ट्रेटिव कांप्लेक्स और मेडिकल यूनिट बनेगी।

PHOTO : IIM Dhaulakuan
    

नाहन में यह संस्थान बनने से सिरमौर को नई पहचान मिलेगी। संस्थान बनने के बाद नाहन शिक्षा का हब बनेगा। आईआईएम टूरिज्म एंड हॉस्पिटैलिटी में पीएचडी देने वाला देश का पहला संस्थान है। देश के अन्य राज्यों में बनने आईआईएम में भी इस विषय में पीएचडी का प्रावधान नहीं है। परिसर का निर्माण सीपीडब्ल्यूडी को दिया गया है। इसके टेंडर हो गए हैं। 

PHOTO : IIM Dhaulakuan
    

हिमाचल निर्माता डॉ. वाईएस परमार की जयंती पर चार अगस्त को केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक इसकी ऑनलाइन आधारशिला रखी।

PHOTO : IIM Dhaulakuan
    

केन्द्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि यह संस्थान प्रदेश के मेहनती युवाओं के कौशल को निखारने का अवसर प्रदान करने में मील का पत्थर साबित होगा। इस संस्थान को क्षेत्र का बेहतर संस्थान बनाने के लिए केन्द्र सरकार हर संभव सहायता प्रदान करेगी। संस्थान द्वारा शुरू किए गए पाठ्यक्रम विद्यार्थियों के लिए सहायक सिद्ध होंगे। बेहतर प्रबन्धन सफलता का मूल मंत्र है और यह संस्थान प्रदेश में उपलब्ध प्रतिभा के बेहतर प्रबन्धन में मददगार साबित होगा।

PHOTO : IIM Dhaulakuan
    

जय राम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश के ऊना में आईआईआईटी, बिलासपुर में एम्स, कांगड़ा में केन्द्रीय विश्वविद्यालय व निफ्ट जैसे राष्ट्रीय संस्थान होने का गौरव प्राप्त है। इससे हिमाचल देश का शिक्षा का प्रमुख केन्द्र बनकर उभरा है।

PHOTO : IIM Dhaulakuan
    

Posted By :Himachal News

Have something to say? Post your comment
और हिमाचल खबरें
ऊना : जिला में इन क्षेत्रों को बनाया कंटेनमेंट जोन
बिना अध्यापकों के निर्वाचन कार्य का सफलतापूर्वक सम्पन्न होना असम्भव
हमीरपुर : 8 वार्डों में बनाए कंटेनमेंट जोन, घोड़ीधबीरी के दो वार्डों से हटाई पाबंदियां
एक दिन में 500 श्रद्धालु ही कर पाएंगे मां चिंतपूर्णी के दर्शन
आग से ढाई मंजिला मकान राख, 3 परिवार हुए बेघर
Weather Update : हिमाचल में इस दिन तक जारी रहेगा भारी बारिश का दौर
प्रकृति ने धर्मशाला व शिमला को बनाया है स्मार्ट सिटी
Corona Update : हिमाचल के इन जिलों में आए 139 नए मामले, 175 हुए ठीक, तीन की मौत
हिमाचल : कोरोना संक्रमण मामले आने पर ये इलाके कंटेनमेंट व बफर जोन घोषित
फर्जी बीपीएल तथा अन्त्योदय कार्ड धारकों के खिलाफ होगी सख्त कार्रवाई