हिंदी ENGLISH Saturday, July 31, 2021
Follow us on
 
राजनीति

जो कांग्रेस ने 60 सालों में किया था, वह बीजेपी ने 6 सालों में निगल डाला : राणा

सोमसी देष्टा : शिमला | September 01, 2020 06:39 PM
फोटो - हिमाचल न्यूज

हिमाचल न्यूज : शिमला

जीरो से माईनस 23.9 दर पर पहुंची जीडीपी ने दुनिया का ध्यान भारत की ओर खींचा है। तरह-तरह के सवाल उठने लगे हैं, जिनमें सबसे बड़ा सवाल यह है कि क्या देश की करंसी कलेप्स होने की ओर जा रही है। यह बात राज्य कांग्रेस उपाध्यक्ष एवं विधायक राजेंद्र राणा ने एक प्रेस बयान में कही है।

राणा ने कहा कि आजाद भारत के इतिहास में जीडीपी में इतनी बड़ी गिरावट पहली बार देखी गई है। हालांकि जीडीपी का गिरना कोविड-19 कारण बताया जा रहा है, लेकिन हकीकत यह है कि जीडीपी पिछले दो वर्षों से लगातार गिर रही है। इस गिरावट को देश की जीडीपी का गिरता सरकारी ग्राफ बता रहा है। जीडीपी में इतनी बड़ी गिरावट से जनता को बैंकों में जमा अपनी पूंजी व जॉब सिक्योरिटी जैसे खतरे डराने लगे हैं। इसी दौरान देश की सबसे ईमानदार पार्टी का सर्टिफिकेट लेकर घूमने वाली बीजेपी दुनिया की सबसे रईस पार्टी बन चुकी है। देश की जीडीपी बेशक रसातल में पहुंच चुकी है, लेकिन देश पर राज करने वाली बीजेपी की जीडीपी सातवें आसमान पर जा पहुंची है। दुनिया की पांचवी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था भारत में जीडीपी का निकला जनाजा देश में खतरनाक आर्थिक असंतुलन पैदा कर रहा है।

राणा ने कहा कि सबसे निचले स्तर पर पहुंची जीडीपी का आंकड़ा सरकारी है, लेकिन सरकारी आंकड़ा कितना सही है इस पर भरोसा नहीं किया जा सकता है। क्योंकि झूठ की राजनीति की मास्टर हो चुकी बीजेपी की इसी बात पर अब भरोसा नहीं किया जा सकता है। बीजेपी के राज में सरकारी आंकड़ों की विश्वसनीयता लगातार कम हुई है और अब आलम यह है कि सरकार के किसी भी आंकड़े पर देश में किसी को कोई भरोसा बाकी नहीं बचा है। ऐसे में अगर गिरती जीडीपी का असल आंकड़ा कहीं और नीचे हो तो कोई हैरानी नहीं होगी। हालांकि सरकार द्वारा जीडीपी को जमीन पर आने के लिए कोविड-19 को जिम्मदार बताया जा रहा है, लेकिन हकीकत यह है कि जीडीपी का ग्राफ नोटबंदी व गलत जीएसटी जैसे फैसलों के बाद लगातार गिरा है। जिससे देश की चरमरा चुकी अर्थव्यवस्था से सामाजिक सुरक्षा का खतरा बढ़ा है। विकास दर की ही जीडीपी नीचे नहीं गिरी है, कृषि, भवन निर्माण, विनिर्माण, खनन व सर्विस सेक्टर भी हाल-बेहाल है। जहां तक कृषि का सवाल है तो उसके आंकड़े पर भी संशय बरकरार है। क्योंकि कृषि के आंकड़े को छोड़कर बाकी सभी क्षेत्रों में गिरावट दर्ज की गई है।

सुरक्षा के दावे करने वालों ने देश को किया है असुरक्षित
राणा ने कहा कि आजाद भारत के इतिहास में जीडीपी की सबसे बड़ी गिरावट दर्ज होना सरकार की नाकामी का उजागर करता है। सत्ता के अहम में डूबी बीजेपी सरकार ने देश से ज्यादा पार्टी व पार्टी के नेताओं के विकास को तरजीह दी है। सरकार ने विपक्ष के साथ सभी संवैधानिक संस्थाओं को नष्ट-भ्रष्ट करने का काम किया है। विपक्ष की हर चेतावनी को नजरअंदाज किया है। जिस कारण से वर्तमान में 5 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था बनाने चली बीजेपी ने देश की अर्थव्यवस्था को अर्श से फर्श पर ला पटका है। वर्तमान दौर में अब किसी भी नागरिक को अपना भविष्य सुरक्षित नहीं लग रहा है। देश व्यापारियों, दलालों व सत्ता के महा दलालों के शिकंजे में है। जो संवैधानिक संस्थाएं व देश के लिए प्रॉफिट मेकिंग संस्थान कांग्रेस ने 60 साल के संघर्ष व मेहनत से खड़े किए थे, उस सिस्टम को बीजेपी ने मात्र 6 सालों में या तो बेच डाला है, या फिर उसका वजूद ही मिटा डाला है।

Posted By :Himachal News

Have something to say? Post your comment
और राजनीति खबरें
बीडीसी के उपाध्यक्ष बनने के बाद कमलेश कुमार ने अपनी पार्टी को लेकर कही ये बड़ी बात
बीडीसी सरदारी गंवाने पर भरमौर कांग्रेस ने की अपने ही नेताओं को निष्कासित करने की मांग, लगाया यह बड़ा आरोप
राठौर का आरोप : आतंक और भय का माहौल बना रही है भाजपा
जिला परिषद चंबा पर भाजपा काबिज, नीलम कुमारी बनीं अध्यक्ष
सोलन जिला परिषद पर भाजपा का कब्जा, कांग्रेस नहीं दे पाई अपने प्रत्याशी
सेमीफाइनल हारी, वर्ष 2022 का फाइनल भी हारेगी कांग्रेस : वीरेंद्र कंवर
नड्डा करेंगे भाजपा के 11 जिला कार्यालयों का शिलान्यास : सुरेश कश्यप
भाजपा ने अनुशासनहीनता पर दो महिला नेताओं समेत छह लोगों को पद से हटाया
अब हिमाचल भाजपा होगी पेपरलेस
युवा मोर्चा की प्रदेश कार्यसमिति घोषित, जानिए किसे मिली जगह