हिंदी ENGLISH Saturday, October 16, 2021
Follow us on
 
हिमाचल

मछली पालन शुरू करेगा नौणी विश्वविद्यालय, किसान और छात्र होंगे लाभान्वित

सोमसी देष्टा : शिमला | September 16, 2021 08:44 PM
फोटो - हिमाचल न्यूज़

हिमाचल न्यूज़ । कृषि-बागवानी और संबद्ध गतिविधियों से किसानों की आय बढ़ाने के लिए डॉ॰ वाई॰ एस॰ परमार औदयानिकी और वानिकी विश्वविद्यालय, नौणी ने विश्वविद्यालय के खेतों के तालाबों में मछली पालन शुरू कर दिया है। हाल ही में, विश्वविद्यालय ने चार उन्नत प्रजातियों की मछलियों के 3,000 शिशुओं को विवि के तालाबों में डाला गया।

विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. परविंदर कौशल ने मुख्य परिसर के मॉडल फार्म में जल भंडारण तालाबों में इन मछलियों को डाला। इस अवसर पर डॉ. एमके ब्रह्मी, ओएसडी, डॉ. केएस पंत, संयुक्त निदेशक, डॉ. रोहित बिष्ट,डॉ. केएल शर्मा, डॉ. दीपक सुम्ब्रिया सहिततकनीकी और फील्ड स्टाफ,जो इस परियोजना पर काम करेंगे मौजूद रहे।

इन मछलियों को हिमाचल प्रदेश राज्य मत्स्य विभाग के नालागढ़प्रजनन फार्मसे खरीदा गया था। इनमें हंगेरियन कार्प, मृगल, जयंती रोहू और कटला शामिल हैं। जहां हंगेरियन कार्प और मृगल बॉटम फीडर हैं वहींजयंती रोहू और कटला क्रमशः कॉलम और सरफेस फीडर होती है।

विश्वविद्यालय में मत्स्य पालन के क्षेत्र का अध्ययन करने के लिए सहायक निदेशक मात्स्यिकी डॉ. हमीर चंद ने मुख्य परिसर के खेतों का दौरा किया। मत्स्य पालन शुरू करने से पहले, डॉ. सोम नाथ, वरिष्ठ मत्स्य अधिकारी ने विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक और प्रबंधकीय कर्मियों को वैज्ञानिक मछली पालन के विभिन्न पहलुओं से परिचित करवाने के लिए दो प्रशिक्षण प्रदान किए। नालागढ़ और देवली में मछली प्रजनन फार्मों का एक्सपोजर दौरा भी किया गया।

इस अवसर पर डॉ. परविंदर कौशल ने कहा कि विश्वविद्यालय ने कृषि-बागवानी, वानिकी और डेयरी गतिविधियों के अलावा मत्स्य पालन भी शुरू किया है। उन्होंने कहा कि कृषि-बागवानी और डेयरी गतिविधियों के साथ मत्स्य पालन से कृषि आय में वृद्धि हो सकती है।डॉ कौशल ने कहा कि हमारा मुख्य उद्देश्य वैज्ञानिक तर्ज पर वाणिज्यिक मत्स्य पालन और उत्पादन प्रदर्शन इकाइयों की स्थापना करना और नए तकनीकी हस्तक्षेपों के माध्यम सेमछली पालन और प्रजनन प्रौद्योगिकी के शोधन पर कार्य करना है। डॉ. कौशल ने कहा कि हम भविष्य में पोल्ट्री और डक कल्चर को शामिल करके मछली आधारित एकीकृत कृषि प्रणाली मॉडल स्थापित करनेकी दिशा में कार्य करना चाहते हैं।

विश्वविद्यालय मछली पालन को व्यापक बनाने और किसानों, विशेष रूप से राज्य के बेरोजगार युवाओं को प्रशिक्षण प्रदान करेगा जिससे मछली पालन क्षेत्र को बढ़ाने और मछली उत्पादन और उत्पादकता बढ़ाने और उत्थान में मददगार होगा और किसानों की सामाजिक-आर्थिक स्थिति में सुधार होगा। इसके अलावा, विश्वविद्यालय छात्रों को व्यावहारिक प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए अच्छी तरह से सुसज्जित होगा। विश्वविद्यालय ने हिमाचल प्रदेश में मत्स्य पालन को बढ़ावा देने के लिए 3.00 करोड़ रुपये के वैज्ञानिक हस्तक्षेप और क्षमता निर्माण पर एक परियोजना प्रस्ताव भी तैयार किया है जिसे राज्य सरकार के माध्यम से भारत सरकार की प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना के तहत वित्तीय सहायता के लिए भेजा जाएगा।

Posted By : Himachal News

Have something to say? Post your comment
और हिमाचल खबरें
अनुराग ने कुटलैहड़ में किए 36 करोड़ के उद्घाटन व शिलान्यास
नमस्कार ! मैं डीसी हमीरपुर बोल रही हूं.....आपने दूसरा टीका नहीं लगवाया है
सिंगल विंडों में 947.47 करोड़ रुपये निवेश मंजूरी
बच्चों के ग्रीटिंग काड्र्स ने बुजुर्गों की जिंदगी में भरे नए रंग
जिला में आज 54 केन्द्रों पर लगाई जाएगी कोविड वैक्सीन
Corona Update Himachal : इन जिलों में आए 127 नए मामले, तीन की मौत
हमीरपुर और ऊना जिला में 17 सितंबर इन स्थानों पर लगाए जाएंगे कोरोना रोधी टीके
अंदरोली में वाटर स्पोर्टस एक्टिविटी वीकेंड टूरिज़्म की तर्ज पर होगी विकसित
बिलासपुर, घुमारवीं व अर्की अस्पतालों को पीएसए प्लांट समर्पित
जय राम ठाकुर ने रखी क्षेत्रीय अस्पताल सोलन की अधारशिला